Monday, 21 January 2013

नए मील का पत्थर पार हुआ

--
translation on 13-12-2012. For A.

"नए मील का पत्थर पार हुआ

कितने पत्थर शेष न कोई जनता ?
अंतिम कौन पड़ाव नहीं पहचानता ?
अक्षय सूरज, अखंड धरती,
केवल काया, जीती मरती,
इसलिए उम्र का बढ़ना भी त्यौहार हुआ।
नए मील का पत्थर पार हुआ।

बचपन याद बहुत आता है,
यौवन रस्घट भर लाता है,
बदला मौसम, ढलती छाया,
रिसती गागर, लुटती माया,
सब कुछ दाँव लगाकर घटे का व्यापर हुआ।
नए मील का पत्थर पार हुआ।"

-अटल बिहारी वाजपेयी


Everyone wonders,  how far the road goes,
But the Final Destinationeveryone knows.
The eternal sun, the endless skies,
Only the body, lives and dies.
And so we celebrate, as another year is lost,
After all, a new milestone was crossed.

I yearn, often, for the childhood years,
Wholesome youth, free from fear.
Seasons change, shadows spread,
Vessels empty, enchantments dead,
I staked everything, and lost.
A new milestone was crossed.

- Atal Bihari Vajpayee

No comments: